RO.NO.12822/173
छत्तीसगढ़राजनांदगांव

गौठान योजना में भ्रष्टाचार ही भ्रष्टाचार- भरत वर्मा

RO.NO.12784/141

चलबो गौठान खोलबो पोल – भरत वर्मा
राजनांदगांव- भरत वर्मा प्रदेश पिछड़ा वर्ग ने आरोप लगाते हुये कहा कि प्रदेश सरकार गौठान योजना के माध्यम से 1300 करोड़ का भ्रष्ट्राचार किया है। भारतीय जनता पार्टी लगातार आरोप लगाते रहे है कि इस प्रदेश में नरवा-गरवा-घुरवा योजना कही भी सफल नहीं है, लेकिन प्रदेश में बैठी भूपेश सरकार लगातार जनता को गुमराह कर रही है। भारतीय जनता पार्टी गाॅव-गाॅव जाकर गौठान का निरीक्षण कर रहे है। धरातल में कही भी गौठान में गौमाता नहीं है। जैविक खाद के नाम पर कंकड़ पत्थर मिट्टी युक्त खाद को किसानों को जबरदस्ती सोसायटी में ऋण लेने पर तीन बोरा खाद दे रहा है, जबकि किसान यह खाद को लेने से इंकार करने के बावजूद जबरन सोसायटियों के माध्यम से जैविक खाद दे रहे है, जबकि भूपेश सरकार प्रत्येक गौठान में 19 लाख रूपया का काम किया है। लेकिन गौठान में जाने पर यह राशि से आधा कार्य भी नहीं हुआ है। गौठान समिति गठन के नाम से कांग्रेस अपने कार्यकर्ताओं का चयन किया है ताकि राशि का बंदरबाट किया जा सकें। राज्य सरकार इस मद से पैसा नहीं दिया है, यह कार्य केन्द्र की राशि से मनरेगा, स्वच्छ भारत मिशन, 14वाॅ वित्त, 15वाॅ वित्त एल.डब्ल्यू.ई. ग्रामीण, डीएमएफ जैसे योजनाओं से गाॅव का विकास होना था, लेकिन राज्य सरकार के दबाव से यह राशि को गौठान में खर्च कर दिया है। राज्य सरकार प्रत्येक गौठान में 300 जानवर रखने का नियम है और प्रत्येक गौठान मे प्रतिमाह गौमाता के रख-रखाव के नाम पर 10,000 रू. का भुगतान प्रतिमाह कर रहे है, लेकिन एक भी गौठान में गौमाता नहीं है और इस राशि का बंदरबाट कर रहे है। जबकि भूपेश सरकार रोका-छेका के नाम पर करोड़ों रूपये विज्ञापन पर खर्च कर रहे है लेकिन धरातल में यह योजना नहीं है। भरत वर्मा ने आरोप लगाते हुये कहा है कि भूपेश सरकार के माध्यम से जितना भी गौठान का निर्माण हुआ है उसका केन्द्रीय जाॅच एंजेसी से जाॅच कराने की मांग करता है कि ताकि सच्चाई जनता के सामने आ सके। आज डोंगरगढ़ तहसील के ग्राम भोथली में गौठान निरीक्षण के दौरान राज्य सरकार के भ्रष्ट्राचार का काला कारनामा देखने को मिला। इस अवसर पर मंडल अध्यक्ष बोधी राम साहू, रोशन साहू, देवराज वर्मा, भोज वर्मा, भोज बंजारे, रमेश सोनवानी सहित गौठान समिति के बहनों एवं ग्रामीणजन उपस्थित थे।

Dinesh Purwar

Editor, Pramodan News

RO.NO.12784/141

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
× How can I help you?