RO NO. 12737/143
स्वास्थ्य

खाने की गंदी आदतें: जो बना सकती हैं कैंसर का कारण

RO NO. 12737/143

वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन (WHO) की रिपोर्ट के मुताबिक दुनिया में हर छठी मौत कैंसर की वजह से होती है। साल 2020 में लगभग 10 मिलियन लोगों की मौत कैंसर की वजह से हुई। रिपोर्ट के अनुसार, साल 2022 में भारत में कैंसर के मामलों की संख्या 14.6 लाख थी और ऐसा अनुमान है कि 2025 तक बढ़कर यह संख्या 15.7 लाख हो सकती है।

कैंसर क्या है? कैंसर एक खतरनाक और जानलेवा बीमारी है। शरीर की कुछ कोशिकाएं यानी सेल्स अनकंट्रोल होकर बढ़ने लगती हैं और शरीर के अन्य हिस्सों में फैल जाती हैं, इसी को कैंसर कहा जाता है।

कैंसर के कारण क्या हैं? कैंसर का कोई एक कारण नहीं है। इसमें कई कारक शामिल हैं जैसे पारिवारिक इतिहास, पर्यावरण या किसी व्यक्ति की जीवनशैली आदि। हालांकि कुछ चीजें कैंसर के रिस्क को बढ़ाती हैं जैसे आपके खाने-पीने की आदतें, कुछ जेनेटिक डिसऑर्डर, कुछ तरह के वायरस जैसे एचआईवी आदि। ईशा फाउंडेशन के संस्थापक और प्रमुख सद्गुरु जग्गी वासुदेव बता रहे हैं कि खाने से जुड़ी कौन सी गंदी आदत कैंसर की वजह बन सकती है।

  कैंसर के प्रकार (Types of cancer)

सद्गुरु के अनुसार, कैंसर के कई प्रकार हैं और इनके होने के अलग-अलग कारण हैं। मौजूद समय में इनमें से 14 प्रकार के कैंसर सबसे प्रभावित कर रहे हैं। पिछले 5 से 7 सालों में इन कैंसर के मामले तेजी से बढ़े हैं।

पेट से शुरू होते हैं 8 तरह के कैंसर

सद्गुरु के अनुसार, मौजूदा 14 प्रकार के कैंसर में से 8 तरह के कैंसर ऐसे हैं, जो आपके पेट से शुरू होते हैं।

कैंसर की असली जड़

सद्गुरु ने बताया कि पेट से शुरू होने वाले कैंसर की असली जड़ आपके द्वारा खाए गए ऐसे खाद्य पदार्थ हैं, जो काफी पुराने हैं। लोग जाने-अनजाने में ऐसी चीजों का सेवन कर रहे हैं, जो महीनों पुरानी होती हैं।

खाने की पुरानी चीजें क्या-क्या हैं

सद्गुरु के अनुसार, आप जो भी सब्जियां, मीट, पास्ता, ब्रेड या अन्य चीजें खरीद रहे हैं, वास्तव में वो महीनों पुरानी होती हैं। इन चीजों को कभी नहीं खाना चाहिए।

पुराने चीजें कैसे बनती हैं कैंसर की वजह

खाने की इन चीजों को इस तरह स्टोर किया जाता है कि वो सड़ती नहीं हैं। लेकिन इन चीजों में तमस इकट्ठा हो जाता है। तमस का अर्थ है जड़ता। आपके लिए जड़ता का अर्थ है मृत्यु। इन 8 तरह के कैंसर की खतरा कम करना है, तो ध्यान रखें कि आप क्या खा रहे हैं।

Dinesh Purwar

Editor, Pramodan News

RO NO. 12737/143

Dinesh Purwar

Editor, Pramodan News

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button