RO.NO.12784/141
जिलेवार ख़बरें

रायपुर संभाग के 17 रीपा केंद्रों की जांच के लिए टीम गठित

रायपुर

संभाग के रीपा (ग्रामीण औद्योगिक पार्क) केंद्रों की जांच के लिए दस सस्यीय टीम गठित की गई है। टीम में प्रमुख सचिव के साथ अन्य उच्च अधिकारी शामिल हैं। सात दिनों में 17 रीपा केंद्रों की जांच कर रिपोर्ट सौंपी जानी है। पंचायत एंव ग्रामीण विकास विभाग के उप सचिव अजय कुमार त्रिपाठी ने एक आदेश भी जारी किया है। सात अधिकारियों को दो-दो तथा तीन को एक-एक केंद्रों के जांच की जिम्मेदारी मिली है।

बताते चलें कि पूर्ववर्ती कांग्रेस सरकार द्वारा शुरू किए गए रीपा में जमकर अनियमितता बरती गई है। कुछ जिलों में रीपा के नाम पर राशि तो खर्च कर दी गई है, लेकिन अब तक शुरू ही नहीं हो पाया है। ऐसे ही कुछ जिलों में सिर्फ पैकेजिंग सेंटर तो कुछ में ताले लग गए हैं। रीपा में सही तरीके से न पार्किंग बनाई गई है और न ही गोदाम का निर्माण हुआ है। राज्य सरकार ने 15 फरवरी को मुख्य सचिव की अध्यक्षता में गठित कमेटी से तीन महीने के भीतर जांच कराने का निर्णय लिया था।

प्रदेश के 146 विकासखंडों में संचालित 300 रीपा केंद्र जांच के दायरे में है। रीपा में भ्रष्टाचार की जांच के लिए संभागवार अधिकारी नियुक्त किए गए हैं। रायपुर संभाग की जिम्मेदारी प्रमुख सचिव निहारिका बारिका, दुर्ग की सचिव कमलप्रीत सिंह, बिलासपुर की सचिव मुकेश बंसल, बस्तर की सचिव अंकिता आनंद और सरगुजा की सचिव शमी आबिदी को सौंपी गई है। संभागवार अधिकारियों के नेतृत्व में अलग-अलग टीम गठित कर रीपा केंद्रों की जांच की जा रही है।

रायपुर संभाग के रीपा केंद्रों की जांच के लिए दस सस्यीय टीम में प्रमुख सचिव निहारिका बारिक, सचिव राजेश राणा, मुख्य कार्यपालन अधिकारी भीम सिंह, आयुक्त दीपक सोनी, संचालक रजत बंसल, संयुक्त सचिव तारण प्रकाश सिन्हा, संचालक प्रियंका महोबिया, मिशन संचालक चंदन संजय त्रिपाठी, राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन की संचालक नम्रता जैन और संयुक्त सचिव अशोक चौबे शामिल हैं।

जांच के यह प्रमुख बिंदु निर्धारित
– आवंटित भूमि किसके स्वामित्व में थी, यदि निजी भूमि थी तो आवंटन का आधार क्या था। क्या निजी भूमि पर पूर्व में अधोसंरचना निर्मित थी।
– क्या रीपा के लिए विजन डाक्यूमेंट बनाया गया है, किसने बनाया है। डाक्यूमेंट बनाने वाले का चयन किस आधार पर किया गया।
– रीपा के लिए तकनीकी सहायता एजेंसी निर्धारित किया गया है, यदि हां तो एजेंसी चयन का क्या आधार था।
– अधोसंरचना निर्माण अंतर्गत क्या निर्माण किया गया, निर्माण एजेंसी कौन था, चयन किस आधार पर किया गया। अधोसंरचना निर्माण का भुगतान हुआ है कि नहीं।
– रीपा मशीनों की खरीदी का आधार क्या था, क्रय नियम का पालन किया गया है कि नहीं, किसके आदेश से एजेंसी तय की गई।
– रीपा में कितने स्वसहायता समूह जुड़े हुए हैं। क्या इनके द्वारा केंद्रों का संचालन किया जा रहा है। रीपा में क्या अन्य मदों से व्यय किया गया है।

रायपुर संभाग के इन विकासखंडों में संचालित रीपा केंद्र की होगी जांच
महासमुंद विकाखंड अंतर्गत बिरकोनी
आरंग विकासखंड अंतर्गत लखौली
भाटापारा विकासखंड अंतर्गत गुडेलिया
पलारी विकासखंड अंतर्गत गिर्रा
कुरूद विकासंखड अंतर्गत हचलपुर
धमतरी विकासखंड अंतर्गत भटगांव
मगरलोड विकासखंड अंतर्गत खिसोरा
मगरलोड विकासखंड अंतर्गत भेंड्री
गरियाबंद विकासखंड अंतर्गत चिखली
फिंगेश्वर विकासखंड अंतर्गत भेंड्री
धरसींवा विकासखंड अंतर्गत टेमरी
नगरी विकासखंड अंतर्गत सांकरा
नगरी विकासखंड अंतर्गत गट्टासिल्ली
कुरूद विकासखंड अंतर्गत गातापारा
धमतरी विकासखंड अंतर्गत अछोटा
पथौरा विकासखंड अंतर्गत गोडबहाल
बलौदाबाजार विकासखंड अंतर्गत लटूवा

Dinesh Purwar

Editor, Pramodan News

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button