RO.NO.12784/141
राष्ट्रीय-अन्तर्राष्ट्रीय

कर्नाटक सरकार ने फिल्म ‘हमारे बारह’ पर लगा दिया बैन, कहा दंगे भड़क जाएंगे

बेंगलुरु

कर्नाटक सरकार ने अनु कपूर स्टारर फिल्ल 'हमारे बारह' की रिलीज पर प्रतिबंध लगा दिया है। सरकार का कहना है कि इस फिल्म से सांप्रदायिक सौहार्द बिगड़ने की संभावना है। ऐसे में अगले दो सप्ताह के लिए बैन लगाया जा रहा है। इसके बाद प्रतिबंध को लेकर फैसला किया जाएगा। कर्नाटक की कांग्रेस सरकार ने कर्नाटक सिनेमा रेग्युलेशन ऐक्ट 1964 के तहत यह फैसला लिया है।

सरकार का कहना है कि कई अल्पसंख्यक संगठनों ने फिल्म का ट्रेलर देखने के बाद इसपर आपत्ति जताई थी। इस फिल्म में मुख्य भूमिका में अनु कपूर हैं। उनके अलावा मनोज जोशी, परितोष त्रिपाठी और पार्थ सामथान ने इसमें अभिनय किया है। बता दें कि पहले बॉम्बे हाई कोर्ट ने इसकी रिलीज पर रोक लगाई थी। हालांकि तय तारीख से दो दिन पहले ही हाई कोर्ट ने बैन हटा लिया। बॉम्बे हाई कोर्ट ने कहा था कि कम से कम तीन सदस्यों वाली एक कमेटी बनाई जाए। इसमें कम से कम एक मुस्लिम सदस्य हो। फिल्म देखने के बाद रिपोर्ट सौंपी जाए और तब इसकी रिलीज पर फैसला किया जाएगा।

'हमारे बारह' फिल्म में जनसंख्या विस्फोट का मुद्दा उठाया गया है। आम तौर पर भारतीय सिनेमा में इस तरह के विषय को नहीं दिखाया गया है। पहले इस फिल्म का नाम 'हम दो हमारे 12' दिया गया था। हालांकि बवाल के बाद इसे  बदलकर हमारे बारह कर दिया गया। यह फिल्म 7 जून को ही सिनेमाघरों में रिलीज हो गई है। वहीं फिल्म के ऐक्टर मनोज जोशी ने कहा है कि यह फिल्म किसी भी विशेष धर्म को टारगेट करके नहीं बनाई गई है।

एएनआई से बात करते हुए जोशी ने कहा, मैं एक कलाकार हूं। मैं बहुत साफ कह देना चाहता हूं कि किसी भी धर्म को टारगेट करके यह फिल्म नहीं बनाई गई है। आज हमारे देश में महलाओं के सम्मान को लेकर चर्चा होती है। किसी भी समाज में महिलाओं का अपमान नहीं होना चाहिए। एक महिला कोई वस्तु नहीं होती है। उसको सम्मान पाने का पूरा अधिकार है। वहीं इस फिल्म में कई समस्याओं को दिखाया गया है। इसमें शिक्षा, सशक्तीकरण और जनसंख्या के मुद्दे को दिखाया गया है। हर किसी को परिवार के साथ यह फिल्म देखनी चाहिए।  बता दें कि इस फिल्म को कमल चंद्रा ने डायरेक्ट किया है और राधिका जी फिल्म ऐंड न्यूटेक मीडिया एंटरटेनमेंट ने प्रड्यूस किया है।  

 

Dinesh Purwar

Editor, Pramodan News

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button