RO.NO.12822/173
व्यापार जगत

अब महिलाएं यूट्यूब पर बना सकेंगी ब्रेस्टफीडिंग संबंधी वीडियो, कंपनी करेगी मोनेटाइज

RO.NO.12784/141

अब महिलाएं यूट्यूब पर बना सकेंगी ब्रेस्टफीडिंग संबंधी वीडियो, कंपनी करेगी मोनेटाइज

सैन फ्रांसिस्को
 गूगल के स्वामित्व वाला यूट्यूब ब्रेस्टफीडिंग वीडियो की अनुमति देगा। इस तरह की वीडियो में बच्चे का होना जरूरी है। साथ ही उस कंटेंट से भी प्रतिबंध हटा रहा है, जो डांस मूव्स पर केंद्रित है, जिसमें ट्वर्किंग, ग्राइंडिंग और अन्य शामिल है। कंपनी ने एडल्ट कंटेंट से कमाई करने के लिए नए प्रकार के कंटेंट की अनुमति देने के लिए अपने दिशानिर्देशों को अपडेट किया है। बदलाव गेमिंग वीडियो पर भी लागू होंगे।

एक महिला अपने निपल्स को खुला या दृश्यमान रखते हुए अपने बच्चे को स्तनपान करा रही है और हाथ की अभिव्यक्ति या स्तन पंप के उपयोग का प्रदर्शन कर रही है, जिसमें निपल्स दिखाई दे रहे हैं और दृश्य में एक बच्चा है, अब मंच पर विज्ञापन राजस्व अर्जित कर सकते हैं। यूट्यूब के प्रवक्ता ने टेकक्रंच को बताया, ब्रेस्टफीडिंग पर यूजर्स के फीडबैक को देखा। कई पेरेंट्स यूट्यूब पर ब्रेस्टफीडिंग से जुड़ा कंटेंट देखते हैं और इसी को ध्यान में रखकर अब कंपनी क्रिएटर्स को पैसा ऑफर कर रही है। केवल ज्ञानवर्धक वीडियो को कंपनी मोनेटाइज करेगी।

 यूट्यूब उस कंटेंट पर से प्रतिबंध भी हटा रहा है, जो डांस मूव्स पर केंद्रित है जिसमें ग्राइंडिंग या ट्वर्किंग शामिल है। कंपनी अभी भी स्तनों, बट या जननांगों पर जानबूझकर और बार-बार लिए जाने वाले शॉट्स, बेहद छोटे कपड़े और यौन कृत्यों की नकल करने वाली कामुक हरकतों के साथ नृत्य वीडियो पर मुद्रीकरण को प्रतिबंधित करेगी, यानि ऐसी वीडियो जिसमें न्यूडिटी को बढ़ावा दिया गया होगा वो मोनेटाइज नहीं होगी।

इन परिवर्तनों के बावजूद, सभी कंटेंट को अभी भी मोनेटाइज उद्देश्यों के लिए यूट्यूब के सामुदायिक दिशानिर्देशों और विज्ञापनदाता-अनुकूल सामग्री दिशानिर्देशों का पालन करना होगा। आलोचकों ने पहले यूट्यूब की विज्ञापन नीतियों पर महिलाओं और एलजीबीटीक्यू व्यक्तियों को गलत तरीके से लक्षित करने का आरोप लगाया है।

एलन मस्क के एक्स को झटका: आईबीएम ने विज्ञापन देने पर लगाई रोक, जानें इसके पीछे का कारण

सैन फ्रांसिस्को
 यहूदी विरोधी भावना को बढ़ावा देने वाली पोस्ट का समर्थन करने वाले एलोन मस्क के दृष्टिकोण को लेकर टेक प्रमुख आईबीएम ने एक्स पर विज्ञापन देना बंद कर दिया है। गैर-लाभकारी संगठन मीडिया मैटर्स ने इस विषय पर ध्यान आकर्षित करते हुए कहा कि चूंकि मस्क ने श्वेत राष्ट्रवादी और यहूदी विरोधी साजिश के सिद्धांतों में अपना वश जारी रखा है, इसलिए उनका सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म एप्पल, ब्रावो (एनबीसीयूनिवर्सल), आईबीएम, ऑरेकल और एक्सफिनिटी (कॉमकास्ट) जैसे प्रमुख ब्रांडों के लिए विज्ञापन दे रहा है।

आईबीएम ने फाइनेंशियल टाइम्स को एक बयान जारी कर कहा कि उसने एक्स पर सभी विज्ञापन निलंबित कर दिए हैं, जबकि हम इस पूरी तरह से अस्वीकार्य स्थिति की जांच कर रहे हैं। मीडिया मैटर्स ने कहा कि कंपनी के प्लेसमेंट सीईओ लिंडा याकारिनो व्यवसाय के लिए सुरक्षित होने का दावा करके विज्ञापनदाताओं को मंच पर वापस लाने की कोशिश कर रहे है।

 उन्होंने यह भी दावा किया कि 'एक्स’ मंच पर यहूदी विरोधी भावना से लडऩे के लिए अपनी पूर्ण प्रतिबद्धता प्रदर्शित कर रहा है। एक्स ने अपने निर्माता विज्ञापन राजस्व साझाकरण कार्यक्रम के हिस्से के रूप में कट्टरपंथियों के कई खातों को भी बहाल किया है। जिसमें हिटलर समर्थकों का खाता भी शामिल है। रिपोर्ट में कहा गया है कि मस्क द्वारा प्रेरित इस अराजकता के दौरान, हिटलर समर्थक, होलोकॉस्ट डिनायल, श्वेत राष्ट्रवादी, हिंसा समर्थक और नव-नाजी खातों पर कॉर्पोरेट विज्ञापन भी दिखाई दे रहे हैं।

पर्सनल लोन हो सकता है महंगा, आरबीआई ने उठाया खास कदम

मुंबई
 रिजर्व बैंक ने बैंकों और गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियों के लिए पर्सनल लोन के नियमों को गुरुवार को कड़ा कर दिया। संशोधित मानदंड के अनुसार वित्तीय संस्थानों के जोखिम भार में 25 प्रतिशत अंक की वृद्धि कर दी गई है। इस बात की संभावना है कि केंद्रीय बैंक के इस कदम से आने वाले समय में पर्सनल लोन लेना महंगा हो सकता है।

आरबीआई की वेबसाइट पर उपलब्ध नोटिफिकेशन में कमर्शियल बैंकों को लेकर जो नियम जारी किया गया है उसके मुताबिक, कंज्यूमर क्रेडिट यानी कंज्यूमर लोन के लिए रिस्क वेटेज को 100त्न से बढ़ाकर 125त्न कर दिया गया है। यह नए और पुराने दोनों लोन पर लागू होगा। इसमें पर्सनल लोन शामिल किया गया है. हाउसिंग लोन, एजुकेशन लोन, व्हीकल लोन और गोल्ड लोन को अलग रखा गया है।

 

Dinesh Purwar

Editor, Pramodan News

RO.NO.12784/141

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
× How can I help you?