RO NO. 12737/143
स्वास्थ्य

भोजन एलर्जी का कारण बन सकने वाले पाँच स्वस्थ आहार

RO NO. 12737/143

फूड एलर्जी कई तरीकों से पता लग सकती है। जिसमें स्किन पर चकत्ते होना भी शामिल है, इसके बारे में कम बात होती है मगर काफी परेशानी पैदा कर सकती है। इन चकत्तों में हल्की जलन से लेकर गंभीर पित्ती या एक्जिमा तक हो सकता है।

इससे बचने के लिए एलर्जी का कारण बनने वाले फूड्स की पहचान करना जरूरी है ताकि उनसे दूर रहा जा सके। न्यूबर्ग डायग्नोस्टिक्स के कंसल्टेंट पैथालॉजिस्ट डॉ. आकाश शाह ने 5 फूड्स की जानकारी दी है जो स्किन पर चकत्ता पैदा कर सकते हैं।

शेलफिश

शेलफिश की एलर्जी बहुत आम है और पित्ती, एक्जिमा या गंभीर एनाफिलेक्सिस जैसी कंडीशन को ट्रिगर कर सकती है। झींगा, केकड़ा, लाब्स्टर जैसे क्रस्टेशियंस तथा क्लैम और ऑइस्टर जैसे मोलस्क सबसे ज्यादा जिम्मेदार देखे जाते हैं। केवल शेलफिश खाने से ही नहीं बल्कि इसे पकाने के दौरान उठी भाप को अंदर लेने या शेलफिश को छूने से भी सेंसिटिव व्यक्तियों को एलर्जी हो सकती है।

मेवे

मूंगफली, बादाम, अखरोट और काजू जैसे ड्राई फ्रूट स्किन एलर्जी पैदा कर सकते हैं। मेवे से होने वाली एलर्जी में हल्की खुजली और पित्ती से लेकर गंभीर सूजन और सांस लेने में कठिनाई तक हो सकती है। यहां तक कि मेवे के तेल या मक्खन को त्वचा पर लगाने से एलर्जी से सेंसिटिव व्यक्तियों की त्वचा में जलन हो सकती है।

डेयरी प्रॉडक्ट

डेयरी प्रॉडक्ट एक आम एलर्जन हैं, जो खासकर बच्चों में एलर्जी कर सकते हैं। दूध, पनीर, दही या मक्खन जैसे डेयरी पदार्थ खाने के तुरंत बाद एक्जिमा या पित्ती जैसी स्किन रिएक्शन हो सकते हैं। कुछ व्यक्तियों को डेयरी उत्पादों के सीधे संपर्क में आने से भी परेशानी झेलनी पड़ सकती है।

अंडे

अंडे भी आम फूड एलर्जन है और यह भी खासकर बच्चों के लिए खतरनाक है। अंडे या अंडे युक्त खाद्य पदार्थ जैसे बेक की हुई डिश, मेयोनेज़ या कुछ किस्म की सॉस खाने के तुरंत बाद पित्ती या एक्जिमा जैसी स्किन रिएक्शन हो सकती हैं। अंडे से होने वाली एलर्जी उम्र बढ़ने के साथ समाप्त हो जाती है लेकिन कुछ मामलों में यह एडल्ट होने तक भी बनी रह सकती है।

सोया

सोया एलर्जी के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं और चकत्ते, पित्ती या एक्जिमा का कारण बन सकती है। यह कई खाद्य पदार्थों में सोया प्रोटीन, सोया लेसिथिन या सोयाबीन तेल के रूप में मौजूद होता है। सोया एलर्जी वाले व्यक्तियों को फूड लेबल देखकर ही किसी चीज का उपयोग करना चाहिए।डिस्क्लेमर: यह लेख केवल सामान्य जानकारी के लिए है। यह किसी भी तरह से किसी दवा या इलाज का विकल्प नहीं हो सकता। ज्यादा जानकारी के लिए हमेशा अपने डॉक्टर से संपर्क करें।

Dinesh Purwar

Editor, Pramodan News

RO NO. 12737/143

Dinesh Purwar

Editor, Pramodan News

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button