RO NO. 12737/143
राष्ट्रीय-अन्तर्राष्ट्रीय

जनवरी में हैती गिरोह की हिंसा में 1,100 से अधिक लोग मारे गए या घायल हुए: संयुक्त राष्ट्र

RO NO. 12710/141

संयुक्त राष्ट्
 संयुक्त राष्ट्र के मानवतावादियों ने कहा है कि वे हैती के प्रमुख शहरों में बढ़ती अशांति को लेकर बेहद चिंतित हैं, जहां इस साल के पहले महीने में 1,100 से अधिक लोग मारे गए हैं या घायल हुए हैं।

मानवीय मामलों के समन्वय के लिए संयुक्त राष्ट्र कार्यालय (ओसीएचए) ने राजधानी पोर्ट-औ-प्रिंस और अन्य प्रमुख शहरों में हताहतों की संख्या के लिए संयुक्त राष्ट्र मानवाधिकार कार्यालय का हवाला दिया, जो दो साल की अवधि में सबसे अधिक है।

ओसीएचए ने  कहा, "हाल के दिनों में, प्रदर्शनों के बीच घातक हिंसा के फैलने से मानवीय कार्यों में बड़ी बाधाएं आई हैं, इससे जरूरतमंद नागरिकों, खासकर विस्थापन स्थलों पर नागरिकों तक पहुंचने की हमारी योजनाएं प्रभावित हुई हैं।" "देश भर में 313,000 से अधिक लोग विस्थापित हैं।"

मानवतावादियों ने कहा कि सड़क अवरोध और आंदोलन प्रतिबंध स्वास्थ्य कर्मियों को प्रभावित करते हैं और आवश्यक सामाजिक सेवाओं तक पहुंच से समझौता करते हैं। श‍िन्हुआ समाचार एजेंसी की रिपोर्ट के अनुसार, सड़कों और बंदरगाहों तक पहुंचने में कठिनाइयों का असर जीवन रक्षक राहत वितरण पर भी पड़ता है।

मानवतावादियों ने कहा कि पोर्ट-औ-प्रिंस और अन्य शहरी क्षेत्रों सहित देश भर में 1,000 से अधिक स्कूल जनवरी के मध्य में गिरोह विरोध प्रदर्शनों के कारण अस्थायी रूप से बंद कर दिए गए। ओसीएचए ने कहा कि देश में हिंसा के कारण खाद्य पदार्थों की कीमत करीब 25 फीसदी तक बढ़ गयी हैं।

अमेरिका व ब्रिटेन ने यमन में हौथी ठिकानों पर किए हवाई हमले

सना
मीडिया ने बताया कि अमेरिकी-ब्रिटिश गठबंधन ने यमन के उत्तरी प्रांत सादा में हौथी ठिकानों पर दो हवाई हमले किए हैं।

हौथी द्वारा संचालित अल-मसीरा टीवी ने  कहा कि हमलों में उत्तरी सीमावर्ती जिले बाकिम के अल-कुतायनात इलाके को निशाना बनाया गया।

अल-मसीरा टीवी के अनुसार, ये हमले पश्चिमी बंदरगाह शहर होदेइदाह में कई स्थानों पर हौथी स्थलों को निशाना बनाकर शुक्रवार तड़के किए गए सिलसिलेवार हवाई हमलों के कुछ घंटों बाद हुए।

समाचार एजेंसी श‍िन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, यमन में हौथी सेना पिछले नवंबर के मध्य से शिपिंग लेन पर मिसाइल हमले कर रही है, उनका कहना है कि वे गाजा में फिलिस्तीनियों के समर्थन में इजरायल, अमेरिका और ब्रिटिश वाणिज्यिक जहाजों को निशाना बना रहे हैं।

समूह को रोकने के प्रयास में अमेरिकी-ब्रिटिश समुद्री गठबंधन ने जवाबी कार्रवाई की।

 

Dinesh Purwar

Editor, Pramodan News

RO NO. 12737/143

Dinesh Purwar

Editor, Pramodan News

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button