RO NO. 12737/143
राष्ट्रीय-अन्तर्राष्ट्रीय

भारतीय अंतरिक्ष स्टेशन का निर्माण होगा कई चरणों में : इसरो

RO NO. 12710/141

नई दिल्ली 
भारत की अंतरिक्ष महत्वाकांक्षाएं नई ऊंचाइयों पर पहुंच रही हैं क्योंकि भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (इसरो) ने भारतीय अंतरिक्ष स्टेशन (बीएएस) के निर्माण पर अपना ध्यान केंद्रित किया है, जो एक मॉड्यूलर अंतरिक्ष स्टेशन है जिसे कई चरणों में इकट्ठा करने की योजना है।केंद्रीय विज्ञान और प्रौद्योगिकी राज्य मंत्री डॉ. जितेंद्र सिंह ने खुलासा किया कि बीएएस वर्तमान में संकल्पना चरण में है। इसरो महत्वाकांक्षी परियोजना के लिए आवश्यक मॉड्यूल और डॉकिंग पोर्ट की संख्या और प्रकार सहित समग्र वास्तुकला का सावधानीपूर्वक अध्ययन कर रहा है।

इस प्रारंभिक मॉडल को 2028 तक स्थापित करने की योजना है, जिसके विकासात्मक परीक्षण 2025 की शुरुआत में शुरू होंगे। अंतरिक्ष स्टेशन के अंतिम संस्करण को 2035 तक पूरा करने का लक्ष्य है, जो भारत की अंतरिक्ष अन्वेषण यात्रा में एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर है।

इसरो के प्रमुख एस सोमनाथ ने गांधीनगर में अंतर्राष्ट्रीय अंतरिक्ष सम्मेलन 2024 में बोलते हुए अपने अंतरिक्ष कार्यक्रम के लिए देश के दूरदर्शी लक्ष्यों को रेखांकित किया। उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि 2026 तक लॉन्च होने वाला गगनयान मिशन न केवल मनुष्यों को अंतरिक्ष में भेजने की भारत की क्षमता को प्रदर्शित करेगा।

बता दें भारतीय अंतरिक्ष स्टेशन की स्थापना अंतरिक्ष अनुसंधान और अन्वेषण में भारत की उपस्थिति को महत्वपूर्ण रूप से बढ़ाने के लिए तैयार है। यह माइक्रोग्रैविटी में वैज्ञानिक प्रयोगों के संचालन के लिए एक अनूठा मंच प्रदान करेगा और अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी में प्रगति को बढ़ावा देगा, जिससे संभावित रूप से 2040 तक चंद्र संसाधनों पर आधारित आर्थिक गतिविधियों को बढ़ावा मिलेगा, जैसा कि प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने कल्पना की है।

Dinesh Purwar

Editor, Pramodan News

RO NO. 12737/143

Dinesh Purwar

Editor, Pramodan News

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button