RO NO. 12737/143
राष्ट्रीय-अन्तर्राष्ट्रीय

भोपाल पहुंची मेट्रो ट्रेन के छह कोच, ट्रॉलों पर लोडकर 600 किमी दूर से लाए

RO NO. 12710/141

भोपाल

विधानसभा चुनाव खत्म होने के बाद भोपाल में मेट्रो ट्रेन दौड़ाने की कवायद तेज हो गई है। मेट्रो रेल कॉरपोरेशन की तैयारी थी कि जून-जुलाई में कुछ हिस्सों में मेट्रो ट्रेन चलने लगेगी। आचार संहिता लगने से पहले मेट्रो ट्रेन का ट्रायल हुआ था। वह ट्रायल सक्सेसफुल रहा था। तीन महीने बाद भोपाल में दो मेट्रो ट्रेन के लिए छह कोच पहुंची है। इसे 600 किलोमीटर दूर से ट्रॉलों पर लोड कर लाया गया है।

सुभाष नगर डिपो में रखे गए सभी कोच

दरअसल, मेट्रो रेल कॉरपोरेशन की तैयारी है कि सबसे पहले ऑरेंज लाइन पर ट्रेन चलाई जाई है। ट्रायल भी इसी लाइन पर हुआ था। अभी जो छह कोच आए हैं, उन्हें सुभाष नगर डिपो में ही अनलोड किया गया है। सभी कोच पैक हैं। भोपाल मेट्रो का कलर भी भगवा है।

गुजरात से लाए गए हैं कोच

भोपाल मेट्रो ट्रेन के कोच गुजरात के सांवली बड़ोदरा में बन रहे हैं। सांवली बड़ोदरा की दूरी भोपाल से 600 किमी है। एक ट्रेन में तीन कोच होंगे। दो ट्रेन के लिए 3-3 कोच वहां से लाए गए हैं। इन कोचों को बड़े ट्रॉलों में लाए गए हैं। भोपाल पहुंचने में इन ट्रॉलो को तीन दिन का वक्त लगा है।

अब ट्रैक पर लाने की तैयारी

सभी कोच शनिवार को भोपाल पहुंच गए हैं। रविवार को इन कोचों का इंस्टॉलेशन करने की शुरुआत होगी। इंस्टॉलेशन होने के बाद इन कोचों को ट्रायल के ट्रैक पर दौड़ाया जाएगा। अभी भोपाल में 72 कोच और आने वाले हैं।

2000 किमी का होगा ट्रायल

जून के बाद ही भोपाल में मेट्रो ट्रेन की कमर्शियल रन की शुरुआत होगी। इससे पहले सभी कोचों को दो हजार किमी चलाई जाएगी। ट्रायल बिना पैसेंजर के ही होगी। इस दौरान जो कमियां सामने आएंगी, उसे ठीक किया जाएगा। ट्रायल के दौरान ट्रैकों का फिटनेस भी चेक होगा।

स्टेशनों पर काम तेज

भोपाल मेट्रो का ट्रायल रन तीन अक्टूबर को हो गया। ट्रायल के बाद कमर्शियल रन की तैयारी चल रही है। ट्रैक का काम करीब-करीब पूरा हो गया है। अब स्टेशन पर काम चल रहे हैं। पहले चरण में जहां मेट्रो ट्रेन चलना है, उन स्टेशनों पर काम में तेजी आई है। सारी व्यवस्थाएं ठीक की जा रही है। भोपाल के साथ ही इंदौर में भी मेट्रो ट्रेन चलाने की तैयारी चल रही है।

फिलहाल दोनों ही शहरों में मेट्रो को ट्रायल के लिए चलाया जा रहा है। नियम के मुताबिक यात्री से पहले ट्रैक पर 2 हजार किलोमीटर तक मेट्रो ट्रेनों के लिए चलाया जाता है। अब भोपाल में आई दूसरी ट्रेन भी इतना ही चलाया जाएगा।

    इन स्टेशनों पर चल रहा जोरो से कार्य

भोपाल में आगामी मई-जून 2024 से मेट्रो आम लोगों के लिए चलाने का लक्ष्य रखा है, इसलिए इस वक्त मेट्रो का कार्य जोरो पर है। बचे हुए कार्य भी जल्द किया जा रहा, ताकि टाइम पर मेट्रो का संचालन किया जा सके। राजधानी के अलकापुरी, एम्स और डीआरएम ऑफिस मेट्रो स्टेशन के काम में तेजी लाई गई है।

इसके अलावा सुभाषनगर, डीबी मॉल के सामने, एमपी नगर, रानी कमलापति और केंद्रीय स्कूल स्टेशनों का काम पूरा होने के बाद बचा हुआ फिनिशिंग का कार्य किया जा रहा है। साथ ही इन स्टेशनों पर लगने वाले शेड का काम भी हो रहा है।

Dinesh Purwar

Editor, Pramodan News

RO NO. 12737/143

Dinesh Purwar

Editor, Pramodan News

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button