राष्ट्रीय-अन्तर्राष्ट्रीय

ध्रुवीय बर्फ पिघलने से एक सेकेंड कम हो जाएगा समय

वाशिंगटन
आने वाले कुछ सालों में दुनिया में हर कोई अपने समय का एक सेकेंड खो देगा। एक नए अध्ययन के अनुसार, वास्तव में ऐसा कब होगा, यह इंसानों पर ही पर निर्भर करता है। इसकी वजह ध्रुवीय बर्फ के पिघलने से पृथ्वी का घूमना बदल जाने के साथ समय बदल जाना है। हमारे दिन निर्धारित करने वाले घंटे और मिनट पृथ्वी के घूमने पर निर्धारित होते हैं लेकिन वह स्थिर नहीं है। यह पृथ्वी की सतह और उसके पिघले हुए कोर से बदलता है तो इसके आधार पर समय भी थोड़ा बदल सकता है। इन बहुत मामूली परिवर्तनों का मतलब होता है कि दुनिया की घड़ियों को "लीप सेकेंड" द्वारा समायोजित करने की आवश्यकता होगी, जो छोटा लग सकता है लेकिन कंप्यूटिंग सिस्टम पर बड़ा प्रभाव डाल सकता है।

सीएनएन की रिपोर्ट कहती है कि पिछले कुछ वर्षों में बहुत सारे सेकेंड जोड़े गए हैं। धीमी गति की एक लंबी प्रवृत्ति के बाद इसके मूल में परिवर्तन के कारण पृथ्वी का घूर्णन अब तेज हो रहा है। इससे पहली बार एक सेकंड को हटाने की आवश्यकता होगी। फ्रांस में इंटरनेशनल ब्यूरो ऑफ वेट एंड मेजर्स के समय विभाग के पैट्रिजिया तवेला ने अपने अध्ययन में कहा है कि "एक नकारात्मक लीप सेकेंड को कभी भी जोड़ा नहीं किया गया है, इसलिए इससे जो समस्याएं पैदा हो सकती हैं, उनका कोई अंदाजा नहीं है। नेचर जर्नल में बुधवार को प्रकाशित अध्ययन के अनुसार, वास्तव में ऐसा कब होगा, यह ग्लोबल वार्मिंग से प्रभावित हो रहा है। रिपोर्ट में पाया गया कि ध्रुवीय बर्फ के पिघलने से लीप सेकेंड में तीन साल की देरी हो रही है, जो इसे 2026 से 2029 तक धकेल रही है।

ग्लोबल वार्मिंग बन रही वजह

कैलिफोर्निया सैन डिएगो विश्वविद्यालय में भूभौतिकी के प्रोफेसर रिसर्च लेखक डंकन एग्न्यू का कहना है कि यह पता लगाने का एक हिस्सा कि वैश्विक टाइमकीपिंग में क्या होने वाला है, यह समझने पर निर्भर है कि ग्लोबल वार्मिंग प्रभाव के साथ क्या हो रहा है। 1955 से पहले एक सेकेंड को तारों के संबंध में पृथ्वी द्वारा एक बार घूमने में लगने वाले समय के एक विशिष्ट अंश के रूप में परिभाषित किया गया था। इसके बाद ज्यादा सटीक एटॉमिक घड़ियों का युग आया, जो भौतिक सेकंड को परिभाषित करने का एक अधिक स्थिर तरीका साबित हुआ। 1960 के दशक में दुनिया ने समय क्षेत्र निर्धारित करने के लिए समन्वित सार्वभौमिक समय (यूटीसी) का उपयोग करना शुरू कर दिया। यूटीसी परमाणु घड़ियों पर निर्भर है लेकिन फिर भी ग्रह के घूर्णन के साथ तालमेल बनाए रखता है।

धरती की घूर्णन गति स्थिर नहीं है, इसलिए दोनों समयमान धीरे-धीरे अलग हो जाते हैं। इसका मतलब है कि उन्हें वापस संरेखण में लाने के लिए समय-समय पर एक "लीप सेकंड" जोड़ा जाना चाहिए। लंबी अवधि में पृथ्वी के घूर्णन में परिवर्तन पर समुद्र तल पर ज्वार के घर्षण का प्रभुत्व रहा है। इसने इसके घूर्णन को धीमा कर दिया है। एग्न्यू ने कहा, हाल ही में मनुष्यों द्वारा ग्रह को गर्म करने वाले जीवाश्म ईंधन जलाने से ध्रुवीय बर्फ पिघलने का प्रभाव एक महत्वपूर्ण कारक बन गया है। जैसे ही बर्फ समुद्र में पिघलती है, पिघला हुआ पानी ध्रुवों से भूमध्य रेखा की ओर बढ़ता है, जो पृथ्वी के घूमने की गति को और धीमा कर देता है। एग्न्यू का मानना है कि ध्रुवीय बर्फ का पिघलना इतना बड़ा है कि इसने पूरी पृथ्वी के घूर्णन को अभूतपूर्व तरीके से प्रभावित किया है। इसे ऐसे भी कह सकते हैं कि मनुष्य ने पृथ्वी के घूर्णन को बदल दिया है।

बर्फ पिघलने के अलावा और भी कारक

रिपोर्ट के अनुसार, बर्फ पिघलने से पृथ्वी की परिक्रमा धीमी हो सकती है लेकिन जब वैश्विक टाइमकीपिंग की बात आती है तो एक और कारक भी काम करता है। ये है पृथ्वी के मूल में होने वाली प्रक्रियाएं। ग्रह का तरल कोर इसके ठोस बाहरी आवरण से स्वतंत्र रूप से घूमता है। अगर कोर धीमा हो जाता है तो ठोस शेल गति बनाए रखने के लिए गति बढ़ाता है और वर्तमान में यही हो रहा है। एग्न्यू कहते हैं कि पृथ्वी की सतह से लगभग 1,800 मील नीचे क्या हो रहा है, इसके बारे में बहुत कम जानकारी है और यह स्पष्ट नहीं है कि कोर की गति क्यों बदल रही है।

इस अध्ययन के अनुसार, जो स्पष्ट है, वह यह है कि ध्रुवीय बर्फ के पिघलने का धीमा प्रभाव पड़ने के बावजूद, कुल मिलाकर पृथ्वी का घूर्णन तेज हो रहा है। इसका मतलब है कि दुनिया को जल्द ही पहली बार एक सेकंड घटाने की जरूरत पड़ेगी। एग्न्यू ने कहा, "एक सेकेंड ज्यादा नहीं लगता है, लेकिन स्टॉक एक्सचेंज लेनदेन जैसी गतिविधियों के लिए स्थापित कंप्यूटिंग सिस्टम को एक सेकंड के हजारवें हिस्से तक सटीक होना आवश्यक है। कई कंप्यूटर प्रणालियों में सॉफ्टवेयर होता है जो उन्हें एक सेकंड जोड़ने में सक्षम बनाता है, लेकिन कुछ के पास एक सेकंड घटाने की क्षमता होती है। एग्न्यू ने कहा कि वास्तव में किसी ने भी यह अनुमान नहीं लगाया था कि पृथ्वी इतनी तेज़ हो जाएगी कि हमें एक लीप सेकेंड हटाना पड़ेगा।

Dinesh Purwar

Editor, Pramodan News

Dinesh Purwar

Editor, Pramodan News

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button