व्यापार जगत

Jet Airways के फाउंडर नरेश गोयल की पत्नी अनीता गोयल का निधन

मुंबई

बंद हो चुकी एयरलाइन जेट एयरवेज के फाउंडर नरेश गोयल की पत्नी अनीता गोयल का 16 मई को सुबह करीब 3 बजे निधन हो गया। वह कैंसर से जूझ रही थीं। उन्होंने मुंबई में अंतिम सांस ली। अनीता गोयल जेट एयरवेज के संचालन से गहन रूप से जुड़ी हुई थीं और एग्जीक्यूटिव वाइस प्रेसिडेंट थीं। साल 2015 से, वह नॉन-एग्जीक्यूटिव वाइस प्रेसिडेंट बन गईं लेकिन बोर्ड ऑफ डायरेक्टर्स का हिस्सा बनी रहीं।

बंबई हाई कोर्ट ने 6 मई को नरेश गोयल को मेडिकल बेसिस पर 2 महीने के लिए अंतरिम जमानत दी थी। गोयल को प्रवर्तन निदेशालय ने जेट एयरवेज को कैनरा बैंक से मिले 538.62 करोड़ रुपये की राशि की मनी लॉन्ड्रिंग कर गबन करने के मामले में सितंबर 2023 में गिरफ्तार किया था। उनकी पत्नी को ईडी ने आरोप पत्र दाखिल करने के बाद नवंबर 2023 में गिरफ्तार किया था। हालांकि अनीता गोयल को उसी दिन विशेष अदालत ने उनकी उम्र और सेहत को देखते हुए जमानत दे दी थी।

बंबई हाई कोर्ट ने अंतरिम जमानत के लिए गोयल को 1 लाख रुपये का मुचलका भरने और अधीनस्थ अदालत की इजाजत के बिना मुंबई से बाहर नहीं जाने का आदेश ​दिया गया था। वह अभी अपने मुंबई स्थित आवास पर हैं। 75 वर्षीय गोयल ने मेडिकल और मानवीय आधार पर अंतरिम जमानत देने की गुहार लगाई थी क्योंकि वह और उनकी पत्नी अनीता गोयल दोनों कैंसर से पीड़ित हैं। विशेष अदालत ने फरवरी में गोयल की जमानत अर्जी खारिज कर दी थी लेकिन उन्हें उनकी पसंद के निजी अस्पताल में भर्ती होने और इलाज कराने की अनुमति दे दी थी। नरेश गोयल ने इसके बाद हाई कोर्ट का रुख किया।

डॉक्टरों ने दिया था कुछ महीने का समय

नरेश गोयल (Naresh Goyal) को दो महीने की जमानत देते हुए न्यायमूर्ति एनजे जामदार की पीठ ने कहा कि उन्होंने चिकित्सा और मानवीय आधार पर अंतरिम जमानत मांगी थी, क्योंकि वह और उनकी पत्नी अनीता गोयल दोनों कैंसर से पीड़ित हैं. सुनवाई के दौरान गोयल की ओर से पेश वकील हरीश साल्वे ने कहा दलील देते हुए कहा था कि उनके खिलाफ आरोप गंभीर हो सकते हैं, लेकिन जमानत पूरी तरह से मानवीय आधार पर मांगी जा रही है. गोयल की पत्नी अनीता गोयल कैंसर से पीड़ित हैं और साल्वे ने दावा किया था कि उनका इलाज कर रहे डॉक्टरों ने उन्हें जीने के लिए केवल "कुछ महीने" का समय दिया है.

538 करोड़ की हेरा-फेरी में गिरफ्तार

प्रवर्तन निदेशालय (ED) के वकीलों की ओर से नरेश गोयल को जमानत दिए जाने का विरोध किया गया था. हालांकि, उनके अस्पताल में भर्ती होने की अवधि बढ़ाए जाने पर ईडी ने कोई आपत्ति नहीं जताई थी. गौरतलब है कि 74 वर्षीय व्यवसायी नरेश गोयल को को सितंबर 2023 में ईडी ने गिरफ्तार किया था, जिसमें दावा किया गया था कि उन्होंने मनी लॉन्ड्रिंग की थी और केनरा बैंक द्वारा जेट एयरवेज को दिए गए 538.62 करोड़ रुपये के ऋण की हेराफेरी की थी.

Dinesh Purwar

Editor, Pramodan News

Dinesh Purwar

Editor, Pramodan News

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button