RO NO. 12737/143
राष्ट्रीय-अन्तर्राष्ट्रीय

राम मंदिर निर्माण: बाल रूप में अयोध्या में विराजमान होंगे रामलला, 90 प्रतिशत तैयार हुई मूर्ति

RO NO. 12737/143

अयोध्या

22 जनवरी को अयोध्या में राम मंदिर के उद्घाटन से पहले श्री राम जन्मभूमि ट्रस्ट के महासचिव चंपत राय ने बुधवार को कहा कि भगवान राम के बाल रूप को दर्शाने वाली मूर्ति 90 प्रतिशत तैयार है। उन्होंने बताया कि, "राम जन्मभूमि मंदिर में, भगवान राम के 5 वर्षीय बाल रूप को दर्शाने वाली 4'3'' की मूर्ति का निर्माण अयोध्या में तीन स्थानों पर किया जा रहा है। तीन कारीगर पत्थर के तीन अलग-अलग टुकड़ों पर मूर्ति का निर्माण कर रहे हैं, इनमें से श्रैष्ठतम कृति को चुना जाएगा। चंपत राय ने कहा, ये मूर्तियां 90 प्रतिशत तैयार हैं और परिष्करण कार्य पूरा होने में लगभग एक सप्ताह लगेगा।

मंदिर का भूतल लगभग तैयार
उन्होंने कहा, "मूर्ति को भूतल पर 'गर्भगृह' में स्थापित किया जाएगा। मंदिर का भूतल लगभग तैयार है। इसलिए, 'प्राण-प्रतिष्ठा' (अभिषेक समारोह) में कोई समस्या नहीं होगी।" उन्होंने बताया कि 'प्राण-प्रतिष्ठा' समारोह में कम से कम 4000 साधुओं को आमंत्रित किया जा रहा है। आगे आमंत्रित लोगों की सूची भी तैयार है। पीएम नरेंद्र मोदी 22 जनवरी 2024 को अयोध्या में राम मंदिर के उद्घाटन में शामिल होंगे। श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र के पदाधिकारी धार्मिक नेताओं के साथ प्रधानमंत्री को निमंत्रण देने गए थे।

अयोध्या में अमृत महाउत्सव मनाया जाएगा
अयोध्या में राम मंदिर में राम लला (शिशु भगवान राम) के प्राण-प्रतिष्ठा (प्रतिष्ठा) समारोह के लिए वैदिक अनुष्ठान मुख्य समारोह से एक सप्ताह पहले 16 जनवरी, 2024 को शुरू होंगे। वाराणसी के एक वैदिक पुजारी लक्ष्मी कांत दीक्षित 22 जनवरी को राम लला के अभिषेक समारोह का मुख्य अनुष्ठान करेंगे। 14 जनवरी से 22 जनवरी तक अयोध्या में अमृत महाउत्सव मनाया जाएगा। 1008 हुंडी महायज्ञ का भी आयोजन किया जाएगा जिसमें हजारों लोगों को भोजन कराया जाएगा।

कितने बजे विराजमान होंगे रामलला
श्री राम जन्मभूमि तीरथ क्षेत्र ट्रस्ट ने उस दिन दोपहर 12 बजे से 12:45 बजे के बीच राम मंदिर के गर्भगृह में राम लला को विराजमान करने का निर्णय लिया है। ट्रस्ट ने समारोह के लिए सभी संप्रदायों के 4,000 संतों को आमंत्रित किया है। अयोध्या में राम मंदिर की आधारशिला पीएम मोदी ने 5 अगस्त 2020 को रखी थी। गौरतलब है कि 2019 में अयोध्या विवाद पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले ने भव्य राम मंदिर के निर्माण का मार्ग प्रशस्त कर दिया था। शीर्ष अदालत के फैसले के बाद, केंद्र ने अयोध्या में भव्य राम मंदिर के निर्माण के संबंध में सभी निर्णय लेने के लिए श्री राम जन्म भूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट की स्थापना की। ट्रस्ट की देखरेख में मंदिर का निर्माण कार्य निरंतर गति से चल रहा है। रामलला की मूर्ति मंदिर के गर्भगृह में होगी। इससे पहले श्री राम जन्मभूमि ट्रस्ट ने श्री राम जन्मभूमि मंदिर में चल रहे फर्श के काम और मंदिर के अंदर जटिल नक्काशी की तस्वीरें साझा कीं।

Dinesh Purwar

Editor, Pramodan News

RO NO. 12737/143

Dinesh Purwar

Editor, Pramodan News

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button